Cart (0) - ₹0

Latest Post

View All
केदारनाथ में किस महीने में कम भीड़ होती है? | In which month is Kedarnath less crowded?

केदारनाथ में किस महीने में कम भीड़ होती है? | In which month is Kedarnath less crowded?

2024-05-21 16:45:43

अगर आप भीड़ के समय नहीं जाना चाहते ही तो, आप यात्रा सुरु के समय ओर यात्रा के आखरी समय में न जाएं । इस समय ज्यादा भीड़ होती है। 

केदारनाथ में मई महीने के सभी अपडेट  | Kedarnath Yatra May 2024 Update

केदारनाथ में मई महीने के सभी अपडेट | Kedarnath Yatra May 2024 Update

2024-05-18 17:31:15

केदारनाथ में तीर्थयात्रियों की उमड़ी भारी भीड़ को नियंत्रित करना बहुत मुस्किल होते जा रहा है। इसके लिए यात्रियों को बहुत सारी जगहों पर रोक जा रहा है, जैसे ऋषिकेश, श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, तिलवाडा आदि कई जगहों में हो सकता है आपको रुकना पड़े। तो कृपया इसके लिए पहले से तैयार रहे अपने पास पर्याप्त खर्चा जरूर रखें।

हरिद्वार से केदारनाथ कैसे जाएं | संपूर्ण मार्गदर्शन | How to go from haridwar to Kedarnath?

हरिद्वार से केदारनाथ कैसे जाएं | संपूर्ण मार्गदर्शन | How to go from haridwar to Kedarnath?

2024-05-04 05:45:01

इसमें रोड, हेलिकॉप्टर, बस, और रेलवे सेवाओं का वर्णन है। मार्ग की सुरक्षा, समय, और आवश्यक तैयारियों के बारे में भी चर्चा की गई है। इसका महत्व है कि पवित्र स्थल की यात्रा प्लान करने और सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त युक्तियों का प्रयोग किया जाए।

हिमालय: केदारनाथ तक पहुँचने का सबसे अच्छा माध्यम

हिमालय: केदारनाथ तक पहुँचने का सबसे अच्छा माध्यम

2024-05-03 16:48:11

ज्यादातर यात्रि ऋषिकेश या हरिद्वार से एक बस या निजी वाहन को किराए पर लेते है, ओर अगर आपको मजा नहीं आता तो आप फाता, गुप्तकाशी, सीतापुर, सोनप्रयाग आदि से हेलीकॉप्टर सेवाओं का भी उपयोग कर सकते है।

केदारनाथ मंदिर में क्या रहस्य है। यहां के ज्योतिलिंग को जागृत शिव क्यों कहा जाता है?

केदारनाथ मंदिर में क्या रहस्य है। यहां के ज्योतिलिंग को जागृत शिव क्यों कहा जाता है?

2024-03-05 17:12:46

केदारनाथ मंदिर, हिमालय की ऊँची चोटियों में बसा एक ऐसा पवित्र स्थल है जो अपने आप में अनेक रहस्यों और चमत्कारों को समेटे हुए है। यह भगवान शिव का एक प्रमुख ज्योतिर्लिंग है, जिसे जागृत शिव कहा जाता है क्योंकि माना जाता है कि यहाँ शिव स्वयं मौजूद हैं और भक्तों की प्रार्थना का साक्षात उत्तर देते हैं।

केदारनाथ मंदिर में कोन से देवता है? | Who are the god in Kedarnath temple?

केदारनाथ मंदिर में कोन से देवता है? | Who are the god in Kedarnath temple?

2024-03-05 07:59:14

केदारनाथ मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थ स्थल है। यह मंदिर हिमालय की गोद में बसा हुआ है और इसे शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। इसका आध्यात्मिक महत्व (Spiritual Significance) अत्यधिक है और हर वर्ष हजारों तीर्थयात्री (Pilgrims) यहाँ दर्शन के लिए आते हैं।

केदारनाथ के आसपास (Nearby) घूमने लायक जगह | Places to visit around Kedarnath

केदारनाथ के आसपास (Nearby) घूमने लायक जगह | Places to visit around Kedarnath

2024-03-05 07:47:17

केदारनाथ, हिमालय की गोद में स्थित एक पवित्र तीर्थ स्थल है, जो न केवल अपनी आध्यात्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है बल्कि अपने आसपास के प्राकृतिक सौंदर्य के लिए भी जाना जाता है। यहां आपको वो सभी जगहें मिलेंगी, जिनकी सैर करना आपके केदारनाथ यात्रा को और भी संतुष्ट (Satisfied) और यादगार बना देगा।

केदारनाथ पैदल मार्ग कितना है? | How much is Kedarnath walking route

केदारनाथ पैदल मार्ग कितना है? | How much is Kedarnath walking route

2024-03-05 06:08:46

केदारनाथ, चार धाम यात्रा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा, उत्तराखंड के गर्भ में स्थित है। भक्तगणों के लिए यहां जाने का एक प्रमुख मार्ग पैदल यात्रा है। इस लेख में, हम केदारनाथ तक पैदल यात्रा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

बद्रीनाथ से केदारनाथ कैसे जाएं | संपूर्ण मार्गदर्शन |  How to go from Badrinath to Kedarnath?

बद्रीनाथ से केदारनाथ कैसे जाएं | संपूर्ण मार्गदर्शन | How to go from Badrinath to Kedarnath?

2024-03-05 06:03:11

हमारे इस आलेख में हम आपको बद्रीनाथ से केदारनाथ जाने के विभिन्न तरीकों, मार्गों और टिप्स के बारे में विस्तार से बताएंगे।

केदारनाथ क्यों प्रसिद्ध है? | केदारनाथ के प्रसिद्ध होने के कारण | Why is Kedarnath famous?

केदारनाथ क्यों प्रसिद्ध है? | केदारनाथ के प्रसिद्ध होने के कारण | Why is Kedarnath famous?

2024-03-05 05:55:44

केदारनाथ, भारत के पवित्र और आदरणीय स्थलों में से एक है, जो उत्तराखंड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में स्थित है। यह स्थल अपने अद्वितीय धार्मिक महत्व, ऐतिहासिक विशेषताओं, और सुंदर प्राकृतिक सौंदर्य के लिए प्रसिद्ध है। इस लेख में, हम केदारनाथ की प्रसिद्धि के मुख्य कारणों के बारे में चर्चा करेंगे।

क्या केदारनाथ के लिए ई-पास आवश्यक है? | Is e-pass necessary for Kedarnath?

क्या केदारनाथ के लिए ई-पास आवश्यक है? | Is e-pass necessary for Kedarnath?

2024-03-05 05:53:47

केदारनाथ, हिन्दुओं के पांच केदारों में से एक है और यह यात्रा अपनी धार्मिक महत्व के कारण ही नहीं बल्कि अपनी सुंदरता और समृद्ध संस्कृति के कारण भी लोकप्रिय है। लेकिन क्या आपको पता है कि केदारनाथ यात्रा के लिए ई-पास की आवश्यकता होती है? इस लेख में, हम इस सवाल का उत्तर देंगे और केदारनाथ के लिए ई-पास के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

हैदराबाद से केदारनाथ कैसे पहुँचें | धार्मिक यात्रा की सम्पूर्ण योजना

हैदराबाद से केदारनाथ कैसे पहुँचें | धार्मिक यात्रा की सम्पूर्ण योजना

2024-03-05 05:49:29

हैदराबाद से केदारनाथ तक की यात्रा एक अनुभव है जो आपको अद्वितीय भारतीय संस्कृति और शानदार हिमालयी दृश्यों की ओर ले जाता है। यह यात्रा भारत के एक ऐसे धार्मिक स्थल की ओर ले जाती है जो हिन्दू धर्म के चार धामों में से एक है। हालांकि, यह यात्रा एक अनोखी चुनौती भी है, क्योंकि यह हिमालयी पर्वतमाला के उच्च शीर्षों को पार करने वाली है।

Latest Quiz

View All

केदारनाथ की यात्रा का बजट कितना होना चाहिए।

दोस्तों वेसे तो केदारनाथ की यात्रा में आने वाला खर्चा आप पर ही निर्भर करता है, क्योंकि आप जितनी अच्छी सुख सुविधाओं का उपयोग करेंगे तो आपका खर्चा बढ़ता ही रहेगा। औसतन खर्च की बात करें तो केदारनाथ यात्रा का बजट कम से कम प्रति व्यक्ति ₹6,000 रुपये से ₹14,000 रुपये क...

केदारनाथ जाने के लिए कौन सा महीना सुरक्षित है?

केदारनाथ जाने के लिए सुरक्षित अप्रैल से जून का महीना सबसे अच्छा होता है क्योंकि मौसम अच्छा होता है। अधिकतम यात्री इसी समय को ज्यादा अच्छा मानते है। 

केदारनाथ धाम यात्रा 2024 की शुरुआत

केदारनाथ मंदिर 2024 के खुलने की तारीख तय, धार्मिक महत्व और महत्वपूर्ण जानकारी 2024 की धार्मिक यात्राओं के लिए एक महत्वपूर्ण समाचार आया है, जो केदारनाथ मंदिर के खुलने की तारीख के बारे में है। इस साल, केदारनाथ मंदिर 10 मई, 2024 को सुबह 6:20 बजे ...

केदारनाथ मंदिर का निर्माण किसने करवाया था?

केदारनाथ मंदिर के निर्माण का सटीक इतिहास अज्ञात है, लेकिन यह माना जाता है कि महाभारत काल के बाद पांडवों ने इसका निर्माण कराया था। एक अन्य मान्यता के अनुसार, आठवीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य ने इसे बनवाया था।